Wednesday, November 19, 2014

so many lifelines!

 Bauji had gone to office. My mother got my brothers readied for the school and sent them away. She was feeling a bit uneasy. She thought, she would get herself examined from the nearby dispensary, before the children were back from school. While on the way she felt labor pains. She started walking briskly towards dispensary.
 Doctor was not present in the dispensary. A senior nurse was present there. She was nurse cum midwife. She examined my mother and asked her to lie down on the bed for a while. She felt there was still some time left for the young one to arrive. So she asked my mother to wait for two minutes and started going towards her room. Hardly one minute had passed than my mother felt my delivery was about to happen. She cried for help. It was probably a miracle, that the nurse instantly turned back, ran towards my mother, and caught me in her hands! The efficient and smart nurse saved two lives at a time!


  My mother's aunt used to live in a very big mansion. My mother and we children went with in our summer vacations. We children used to play and have fun all over the place. Sometimes downstairs and sometimes upstairs, we ran and jumped, shouted and laughed. I was four years old then. All other children were elder and senior to me. They all were very naughty. I could not understand much then, but I simply used to enjoy their antics.
 It was almost 4 pm in the evening. All the ladies of the house were taking a short nap. All the children were playing on the roof. They were making noises, sometimes they went down, and then ran on the staircase. Elders were scolding them. But they were not paying any heed to them.  Suddenly they started looking down from the wall of the roof. The wall was not very high. In fact it was half of my length!
 All the children were looking down and laughing loudly. I did know what interesting there was. I became very curious. When I could not see down, I bent over a little more over the wall . Even then I could not see anything. As I bent a little more my feet lost ground. I caught hold of top round knob shaped structure of the wall.
  Now the scene was that I was hanging upside down holding the wall .All the children were stunned and continuously staring at me. I was holding wall firmly, so that I might not fall down. Suddenly an elderly person rushed upstairs and caught hold of me. I am sure that I was about to lose grip of the wall at that very moment; but then certainly the hands of life saver are very long!


  On the eve of Kartika Purnima festival, bathing in sacred rivers is considered to very pious. All the members of our family went to river Yamuna early in the morning on that very day. People try to take bath near the bank of the river, as it is safe. Drowning may be unavoidable if one tries to go far from bank of the river. Only swimmers may try to go deep inside.
 We were bathing near the bank of river. I must probably have been ten years old then. Bauji was holding my hand. Somehow I got freed my hand and tried to go a little more towards the river. Suddenly a big wave appeared. My feet lost the grip of the sandy ground underneath. The wave started pushing me slowly towards the river. Bauji was probably taking care of my younger sister. He was not looking at me. I thought I will be taken away with the powerful currents of the river. Water was nearing my chin. It was about to reach above my head. I shouted loudly," Bauji !"  .  He at once turned back and quickly caught hold of me. Within seconds, I would have drowned, but it was not destined. So I possibly got a new lease of life!


 I was feeling headache early in the morning. Pain reliever was placed inside the closet. I did not ask anyone about taking the medicine. Empty stomach, I took the medicine. After that I went to my school .After morning assembly, it was physics practical period. My physics teacher was explaining about some experiment .All the ninth class students were standing near practical table. Surrounded by the students my teacher was very busy explaining every small detail. All the students were listening very carefully.
 Suddenly I stared feeling giddy. Everything became blank in front of my eyes. I tried to tell the student beside me about it. Till she could understand something; I fell vertically behind on my back on cemented floor with loud bang!. My head was bleeding profusely. I became unconscious. I felt as if I am lying on a railway platform. There is red light all over the place. People are standing surrounding me. My physics teacher was asking me, “what happened?".
  Suddenly I became conscious. I saw all the students were standing surrounding me. My physics teacher was caressing me and asking me about my wellbeing. Doctor of my school, put dressing on my wound, and sent me home.  My mother was totally at a loss to understand as what had happened to me . All our neighbors started collecting in our house. Everyone was giving his or her opinion about getting the wound healed up at the earliest. Everyone was discussing about the household remedies. At that time an uncle took me to a nearby doctor. After examining me the doctor gave me some medicines and asked me to take rest for a few days.     I got completely cured after a few days. I think I once again got my lifeline, otherwise after such a serious head injury anything worst could have happened!


   I was getting my clothes pressed to get ready for college.  Bhai was shaving his beard in the courtyard. Suddenly the wire connecting the press and plug pulled apart. I forgot that the switch was on. While trying to connect both the wires I held them in my fingers.  As the live wire touched my thumb, it got stuck with my thumb. I felt the 330 volts current flowing in me. I was forcefully trying to remove the wire from my thumb. I was unable to remove it. I was trying to shout but I was not able to utter a single word!
 Suddenly my brother looked at me. He understood everything in a fraction of second ! He switched off the main line supplying electricity to our house.  As the flow of the current stopped, the wire got separated from my thumb. My body was still feeling the current flowing in me. I was totally stunned for some time but then everything seemed to be normal. I had got a new lifeline!


  I had almost reached my bus stop. I got off from the bus seat and headed towards the front door of the bus. In one hand I was holding my handbag. With other hand I was holding the side bar leading to the front door. Bus conductor was sitting on the front seat near the door.
                       Suddenly the driver had to apply brakes. Bus got big jerks but continued sliding for a while. As soon as the brake was applied,  my hand lost hold of the side bar. I fell upside down on the staircase leading to the front door. My handbag fell on the road . My head was about to touch the surface of the road. All of a sudden, the conductor caught hold of both of my feet firmly. There was hardly a difference of two inches between my head and the road! This new lifeline was certainly a miracle for me ! 

Thursday, November 13, 2014

अनेक बार, जीवनदान !

                                              बाऊजी ऑफिस जा चुके थे । माँ ने भाइयों को तैयार करके स्कूल भेज दिया । उन्हें बेचैनी सी महसूस हो रही थी । उन्होंने सोचा क्यों न बच्चों के वापिस आने से पहले पड़ौस की डिस्पेंसरी के डाक्टर से मुआयना करा लिया जाए । रास्ते में चलते चलते ही उन्हें प्रसव पीड़ा का अनुभव होने लगा । वे थोडी चुस्ती से डिस्पेंसरी की और कदम बढ़ाने लगी ।
                              डिस्पेंसरी में डाक्टर नही थी । एक नर्स मौजूद थी । नर्स midwife की तरह बहुत कुशल थी । उन्होंने माँ का मुआयना करके उन्हें बिस्तर पर लेटने के लिए कहा । नर्स को लगा कि अभी कुछ समय लगेगा । उसने दो मिनट में वापिस आने को कहा और पीछे  मुड़  कर  अपने कमरे की और बढ़ने लगी । एक मिनट भी नहीं बीता होगा कि माँ को मेरे जन्म अनुभव हुआ । माँ ने ज़ोर से आवाज़ लगाई । यह कुदरत का ही शायद करिश्मा था कि नर्स तुरंत पीछे मुड़कर भागी और उसने मुझे अपने हाथों में ओट लिया ! नर्स की चुस्ती फुर्ती से दो प्राणियों को जीवन दान मिल गया ।


                                    माँ की बुआ एक बहुत बड़ी हवेली में रहती थीं । माँ उनके पासकुछ दिनों रहने के लिए गई थी । वहाँ पर हम सभी बच्चे खूब धमा चौकड़ी मचाते । कभी नीचे भागते ; कभी ऊपर । बड़े बच्चों के साथ टोली बनाकर इधर उधर घूमना बहुत अच्छा लगता था । मैं केवल चार वर्ष की थी । बहुत कुछ पता तो था नहीं ; केवल बड़े बच्चों की शरारत में सम्मिलित होने भर में ही मज़े आते थे । शाम को तीन चार बजे का वक्त था । हवेली की लगभग सभी स्त्रियॉं कमरों में सुस्ता रहीं थी । बच्चे कभी छत पर और कभी आँगन में चुहलबाज़ी कर रहे थे । उन्हें बड़ों से डाँट फटकार भी पड रही थी ; परन्तु वे कब मानने वाले थे । अचानक सभी बच्चो छत से नीचे झाँकने लगे । नीचे झाँकने के लिए जो दीवार थी वह बहुत ऊंची नहीं थी । मेरी ऊँचाई से आधी ऊँचाई की ही दीवार थी वह !
                                           सभी बच्चे पता नही नीचे क्या देखकर जोर जोर से हँस रहे थे । मैं भी नीचे झाँकने लगी । अधिक उत्सुकता हुई तो और थोड़ा झुक गई । तब भी कुछ पता न चला । जैसे ही और अधिक झुकी कि पैर ज़मीन से अधर हो गए ।  मैं नीचे आँगन में गिरने ही वाली थी की दीवार का एक मोटा कंगूरा मेरे हाथों में आ गया ।
                     अब आलम ये था कि मैं कंगूरे को कसकर पकडे हुए ऊपर की दीवार से आँगन की तरफ उल्टी लटकी हुई थी । सभी बच्चे भौचक होकर मुझे निहार रहे थे । मैंने अपने नन्हें हाथों पर पूरा ज़ोर डाला हुआ था की कंगूरा हाथों से छूट  न जाए । तभी एक  बड़े व्यक्ति ने ऊपर आकर मुझे पकड़ा और अपनी गोद  में उठा लिया ! वैसे मुझे लगता है की शायद वह कंगूरा मेरे हाथों से बस  छूटने ही वाला था परन्तु जीवन दान देने वाले के हाथ तो बहुत लम्बे होते हैं न !


                                                                कार्तिक पूर्णिमा पर नदियों का स्नान बहुत पवित्र माना जाता है । हम सभी परिवार के सदस्य यमुना नदी पर स्नान के लिए सवेरे सवेरे पहुँच गए । सभी लोग अक्सर घाट के आसपास ही  स्नान कर लेते है  । थोड़ा सा अंदर की तरफ जाने पर रेत में पैर धसक जाने पर डूबने का खतरा होता है । केवल तैराक लोग ही किनारे से थोड़ा दूर जाने का साहस कर लेते हैं ।
                                      हम सभी किनारे पर ही स्नान कर रहे थे । तब मैं शायद केवल दस वर्ष की ही रही हूँगी ।   बाऊजी ने मेरा हाथ पकड़ा हुआ था । मैंने जैसे तैसे अपना हाथ छुड़ा लिया और थोड़ा अधिक पानी में जाने का प्रयत्न करने लगी । तभी पानी का एक बड़ा उछाल आया और मेरे पैर नीचे के रेत को छोड़ते हुए उखड़ने शुरू हो गए । बाऊजी शायद मेरी छोटी बहन को संभाल  रहे थे । वे मेरी ओर देख नहीं पाए । मुझे लगा की शायद मैं लहर केशक्तिशाली प्रवाह में बह ही जाऊँगी । पानी मेरे ठोड़ी  तक तो पहुंच ही रहा था; बस सिर तक चढ़ने ही वाला था ।  मैंने ज़ोर से पुकारा ,"बाऊजी !!" ।  बाउजी आवाज सुनते ही एकदम पीछे मुड़े और मुझे लपककर झटके से पकड़ लिया । दो पल के अंतर से डूबने से बचाव हो गया और एक बार फिर जीवन दान मिल गया ।


                                                        सवेरे सवेरे मुझे सिर में दर्द हो रहा था । घर में सिर दर्द की दवा रखी हुई थी । किसी से भी सलाह लिए बिना मैंने खाली पेट सिरदर्द की दवा खा ली । इसके बाद मैं विद्यालय के लिए चल दी । प्रार्थना के पश्चात भौतिकी का कालांश था ।   भौतिकी विज्ञान की अध्यापिका मेज के एक तरफ खड़े होकर एक प्रयोग के विषय में  समझा रहीं थीं । सभी नवीं कक्षा की छात्राएँ मेज को घेरे बहुत ध्यान से उस प्रयोग को समझने में लगी हुईं थीं । तभी मुझे चक्कर से आने लगे और आँखों के सामने अँधेरा छाने लगा । मैंने पास खड़ी छात्रा  को अवगत करना चाहा । वह कुछ समझती ; उससे पहले ही मैं लंबवत  पीछे की तरफ पक्के फर्श पर धड़ाम से गिरी । जोर की आवाज आई । मेरा सिर पीछे से फूट गया और खून की धारा  निकलने लगी । मैं बेहोश हो गई थी । मुझे लग रहा था कि मैं किसी स्टेशन पर लेटी हुई हूँ । मेरे चारों तरफ  लाल रोशनी है । कई लोग मुझे घेरे खड़े हैं । मेरी भौतिकी की अध्यापिका मुझसे पूछ रही हैं, " क्या हुआ ? "
                                                                तभी मुझे होश आया और मैंने देखा कि सभी छात्राएँ मेरे चारों तरफ खड़ी थी और मेरी भौतिकी की अध्यापिका बड़े प्यार से मुझसे मेरी कुशलता के बारे पूछ रहीं  थीं । विद्यालय की डॉक्टर ने मुझे तुरंत दवा लगाकर मेरी मरहम पट्टी की और मुझे घर भिजवा दिया । माँ तो मुझे देखते ही एकदम परेशान हो गई । सभी अड़ोसी पडोसी भी एकत्र हो गए । किसी ने कुछ सलाह दी किसी ने कुछ और । सभी तरह तरह की दवाइयाँ , जड़ी बूटियां और घरेलू नुस्खे बताने में लगे हुए थे । तभी एक अंकल मुझे पड़ोस के डॉक्टर के पास ले गए । उस डाक्टर ने जाँच करने के बाद कुछ दवाइयाँ दी और कुछ दिन आराम करने के लिए कहा । कुछ दिन आराम करने के बाद मैं पूर्णतया स्वस्थ हो गई । यह शायद मेरे लिए  एक और बार जीवन दान मिला था , नहीं तो इतनी ऊँचाई से सिर फूटने पर शायद कुछ विपरीत परिस्थिति भी हो सकती थी ।


                                                          मैं कॉलेज जाने के लिए अपने कपड़े इस्त्री  रही थी । भाई बाहर आँगन में  खड़े हुए शेव बना रहे थे । अचानक प्रेस के तार और मुख्य बिजली के तार का जोड़ खुल गया । मैं भूल गई कि  बिजली का स्विच ऑन है । मैंने दोनों तार जोड़ने के चक्कर में उन्हें हाथ से पकड़ लिया । हाथ से पकड़ना था कि मेरा अँगूठा बिजली के तार से चिपक गया और मेरे अंदर करंट दौड़ने लगा । मैं अंगूठे से तार हटाने का भरसक प्रयत्न कर रही थी । लेकिन तार तो बुरी तरह से चिपक गया था ; उतर ही नहीं रहा था । मेरे मुंह से आवाज़ भी नहीं निकल पा रही थी ।
                                   अचानक भाई की नज़र मेरे ऊपर पड़ी । उन्होंने सब कुछ समझने में एक पल भी न लगाया । तुरंत उन्होंने main switch off कर दिया । जैसे ही करंट का प्रवाह खत्म हुआ , मेरे हाथ से बिजली का तार अलग हो गया । मेरे शरीर को अभी भी झटके महसूस हो रहे थे । कुछ देर तो मैं स्तब्ध सी रही लेकिन फिर धीरे धीरे सब सामान्य सा लगने लगा । मुझे नया जीवनदान मिला था ।


                                                               मेरा बस स्टॉप आने की वाला था । सीट से उठकर मै दरवाजे की ओर गई । मेरे एक हाथ में एक बैग था और दूसरे हाथ से मैंने बस के बाहर की और जाने की तरफ के दरवाजे की साइड बार पकड़ी हुई थी । बस का ड्राइवर बाहर के दरवाजे के पास वाली अगली सीट पर बैठा था ।
                        अचानक ड्राइवर को तेज़ी से ब्रेक लगाना पड़ा । बस ने जोर का झटका खाया फिर भी कुछ दूर तक आहिस्ते से चलती रही । बस का झटका खाते ही मेरे हाथ से साइड बार एकदम छूट गया । मैं दरवाजे की सीढ़ियों की तरफ औंधी गिरी । मेरा बैग सड़क पर जा गिरा ।  मेरा सिर सड़क पर  घिसटने को ही था; कि कंडक्टर ने फुर्ती से मेरे दोनों पैर कस कर पकड़ लिए । मेरे सिर और सड़क का फासला केवल दो इंच भर ही रह गया होगा । कैसा अद्धुत जीवनदान मिला मुझे !

Friday, November 7, 2014

kidney and urine related problems

Kidney और urine सम्बन्धी समस्याओं के निदान के लिए कुछ पेड़ पौधे हमारी मदद कर सकते हैं ;

मेंहदी ; मेंहदी के पत्ते और इसकी टहनी के छिलके को 3-4 ग्राम की मात्रा में लेकर आधा किलो पानी में पकाएं । जब वह आधा रह जाए तो छानकर पी लें । इससे बढ़ा हुआ E S R , बढ़े हुए pus cells आदि ठीक हो जाते हैं । urine ठीक प्रकार से आने लगता है ।

गेंदा ;   अगर मूत्र में जलन या संक्रमण है तो 5-10 ग्राम गेंदे की पत्तियों को पीसकर रस निकालें । उसे पानी के साथ मिलाकर पीयें । इसके फूल की पंखुड़ियाँ भी ली जा सकती हैं ।

खजूर ;  prostrate glands बढ़े हुए हों , या kidney की समस्या की शुरुआत हो , या और कोई भी मूत्र सम्बन्धी रोग हो तो रोज़ 4-5 खजूर चबा चबाकर खाएं । सर्दियों में दूध में पकाकर भी खा सकते हैं । गर्मियों में सूखे खजूर को रात को पानी में भिगोकर सुबह चबाकर खाएं । ये बहुत पौष्टिक होते हैं ।
इनकी पत्तियाँ कूटकर , शर्बत बनाकर पीएँ । किडनी के रोगों में यह बहुत लाभप्रद है । इससे urine खुलकर आता है ।

पुनर्नवा ;  इसकी पत्तियां घोटकर , काली मिर्च मिलाकर , शर्बत की तरह पीया जाए तो urine सम्बन्धी समस्याएं ठीक होती हैं ।

शिरीष ;  जलन या दाह हो या बार  बार urine के लिए जाना पड़ता हो , तो इसकी कोमल पत्तियां पीसकर , पानी मिलाकर , पीएँ । इससे गर्मीजन्य , विषजन्य , विकार दूर होंगे । ये थोड़े दिन पीने से pus cells कम हो जाते हैं । इन पत्तों का काढ़ा बनाकर भी पी सकते हैं ।

नागदोन ;  कम या रुक रुककर urine आता हो या जलन हो तो इसके 2 पत्तों को पीसकर एक गिलास शरबत बनाएं । इसे सुबह खाली पेट लेने से urine खुलकर आता है ।

छुईमुई ;  इस पौधे का पंचांग उबालकर , काढ़ा बनाकर पीने से रुक रुककर या बार बार आने वाली urine की समस्या ठीक हो जाती है ।

ब्राह्मी ;  इस पौधे को मण्डूकपर्णी , शारदा और महौषधि आदि नामों से भी जाना जाता है । इसके पत्तों का स्वरस और काली मिर्च की ठंडाई बनाकर , उसका सेवन करने से urine और kidney सम्बन्धी सभी समस्याएँ ठीक हो जाती हैं ।

गोखरू ;  गुर्दे की आयुर्वेदिक दवा , वृक्कदोषहर क्वाथ , में गोखरू का प्रयोग होता है । बहुमूत्र की शिकायत हो , बार बार या रुक रुककर urine आता हो या फिर बुजुर्गों को prostrate glands की वजह से कोई भी परेशानी हो ; इन सभी के लिए गोखरू के बीज + काले तिल को बराबर मात्रा में मिलकर , पाउडर करके , सवेरे शाम लेना चाहिए । इस  पाउडर को लेने से बार बार पथरी होने की संभावना खत्म हो जाती है । कई बार operation होने के बाद पुन: पथरी हो जाती है । ये पाउडर पथरी बनने के कारण को ही समाप्त कर देता है ।
बार बार पथरी बनती  हो तो गोखरू के बीज + पाषाणभेद + वरुण की छाल + कुलथ की दाल मिलाकर कूट लें । इसे 10 ग्राम की मात्रा  में लेकर , 600 ग्राम पानी में पकाएं । जब एक चौथाई रह जाए तो पी लें । प्रात: सायं यह काढ़ा लेते रहने से kidney का संक्रमण और पथरी बनने का कारण खत्म हो जाते हैं । कभी कभी तो पथरी निकल भी जाती है ।

अपराजिता ;  रुक रुककर urine हो , कम आता हो , या फिर जलन हो तो इसके पत्तों को पानी में मिलाकर पीस लें । इसमें मिश्री मिलकर शर्बत बनाकर पीएं । अंडकोष फूल गए हों , या हाइड्रोसील की समस्या हो , पानी भर गया हो या फूल गए हों तो , इसके बीज पीसकर , थोड़ा गर्म करके , इस लेप को रुई में फैलाकर , अण्डकोष पर बांधें । ऊपर से लंगोट पहनें । इससे ये सभी समस्याएँ दूर हो जाती हैं ।

सहदेवी ;  यह प्रमेह , धातुरोग , और urine leakage आदि समस्याओं के लिए बड़ा ही कारगर पौधा है । अगर छोटे बच्चे को भी urine infection , जलन या खुजली है तो एक ग्राम सहदेवी के पंचांग को एक गिलास पानी में पकाएं एक चौथाई रहने पर उसे छानकर पिलाएं ।
यह पौधा रक्त शुद्धि , संक्रमण व urine सम्बन्धी परेशानियों में लाभ देता है ।

पलाश ; इसे ढाक , टेसू या किंशुक आदि नामों से भी जाना जाता है । यह जीवाणु नाशक व कीटाणुनाशक पेड़ है। अगर urine खुलकर नहीं आ रहा तो इसके फूल व कोमल पत्तियों को भाप में पकाएं । थोड़ा ठंडा हो जाए तो पेडू में बांधें । urine खुलकर होगा ।
इसके पंचांग को जलाकर , उसकी राख को पानी में काफी देर रखने पर , नीचे सफ़ेद सा पदार्थ रह जाता है । इसे सुखाकर पलाश का क्षार बनता है । यह मूत्रल होता है और kidney सम्बन्धी सभी समस्याओं में लाभकारी है ।

कण्टकारी ;  इसके बैंगनी रंग के फूल होते हैं । जलन हो या रुक रुककर urine आता हो तो ताज़ा पौधा 5 ग्राम लेकर , 400 ग्राम पानी में पकाएं । एक चौथाई बचे तो छानकर पिएँ । यह सूखा मिले तब भी इसी प्रकार काढ़ा बनाकर पीयें । इससे मूत्र सम्बन्धी सभी विकार दूर होंगे ।

गेहूँ ;   गेहूँ को मोटा कूटकर , दो चम्मच दलिया लें । इसे एक गिलास पानी डालकर मिटटी के बर्तन में भिगो दें । सुबह पानी निथारकर , थोड़ी मिश्री मिलकर सेवन करें । urine खुलकर आएगा व पथरी की सम्भावना खत्म हो जाएगी ।

जौ ;  urine कम हो , जलन हो , बार बार जाना पड़ता हो तो , 10 ग्राम जौ + 5 ग्राम काले तिल + 3 ग्राम मेथी को रात को मिटटी के बर्तन में भिगोकर , सुबह सेवन करें । अंदर की गर्मी निकल जाएगी । जलन दाह आदि शांत होंगी , urine सम्बन्धी सभी समस्याएँ ठीक हो जाएँगी ।
जौ के क्षार को यवक्षार कहते हैं । इसे अमृत कहा गया है । इसे आधे से एक ग्राम तक पानी के साथ लिया जाए तो kidney  समस्या , पथरी आदि में   लाभ होता है ।  जौ  को जलाकर इसकी राख को 1-1 ग्राम की मात्रा में पानी के साथ लिया जाए तो पेशाब खुलकर आता है और किडनी की समस्या ठीक हो जाती है .

नागफनी ;  इसकी 4-5 ग्राम जड़ + 1 ग्राम मेथी + 1 ग्राम अजवायन + 1 ग्राम सौंठ को मिलकर 500 ग्राम पानी में पकाएँ । जब एक चौथाई रह जाए तो पी लें । अगर uric acid बढ़ा हुआ है तो इससे सामान्य हो जाएगा । इससे वात सम्बन्धी रोग भी ठीक होते हैं । arthritis के लिए भी यह लाभकारी है ।
इसके कांटे से कान बींधने पर hydrocele की सम्भावना कम हो जाती है । अगर अंडकोष में पानी या  सूजन है तो इसे चौड़ाई से ही इस तरह आधा काटें कि एक तरफ गूदा हो । अब इसे हल्का गर्म करके hydrocele वाली जगह पर रखकर लंगोटी पहन लें । ऐसा कुछ दिन करें । इससे शोथ , सूजन आदि ठीक हो जाएगी ।

मक्का ;  भुट्टे के दाने निकालकर  बचे हुए  जलाकर राख कर लें । इस राख को ठन्डे पानी के साथ सेवन करने से मूत्र सम्बन्धी विकार दूर होते हैं । दाह, जलन या रुक रुककर urine आने की समस्या भी ठीक होगी ।
अगर prostrate glands की समस्या है , गुर्दे में दिक्क्त है , या रुक रुककर urine आता है तो मकई का दलिया भी बहुत लाभकारी रहता है । बच्चे रात को बिस्तर में urine करते हों , तो उन्हें मकई खिलाएं ।

तिल ;   बच्चों को बिस्तर में urine करने की आदत हो तो काले तिल को थोड़ा भूनकर , गुड के साथ मिलाकर लड्डू बनाकर बच्चों को खिलाएँ । पथरी होने पर इसके पौधे की कोमल पत्तियों का पावडर या फिर इसकी जड़ की राख एक एक चम्मच लें । 

गाजर  ;   किडनी की समस्या में गाजर के बीज और धनिया मिलाकर सेवन करें ।

गन्ना  ; इसकी जड़ kidney के लिए बहुत लाभकारी है । इसके सेवन से पेशाब की जलन भी खत्म हो जाती है ।  अगर रुक रुक कर पेशाब आता है तो इसकी 10 ग्राम जड़ का काढ़ा पीयें । 

मूली  ;   पथरी होने पर मूली क्षार सवेरे सवेरे लें . Kidney stone होने पर मूली का रस एक कप की मात्रा में सुबह सुबह  खाली पेट ले लें । इससे आगे चलकर दोबारा पथरी बनने की संभावना भी कम हो जाएगी ।

भुइं आंवला  ;   यह किडनी के infections भी खत्म करती है ।  इसका काढ़ा किडनी की सूजन भी खत्म करता है । 

ककड़ी   ;  यह मूत्रल है ।  यह किडनी की सफाई कर देती है ।  पेशाब की जलन और रुककर urine आने की समस्या ठीक हो जाती है ।   प्यास अधिक लगती हो ककडी का सेवन कच्चे रूप में नियमित तौर पर करना चाहिए ।  ककडी को कच्चा सवेरे या फिर मध्यान्ह में ही करना चाहिए ।  रात्रि को ककडी ,खीरे , टमाटर और मूली आदि का प्रयोग करने से शरीर में वायु की अभिवृद्धि होती है ; अफारा आ सकता है और कफ बढ़ता है ।  

रेवनचीनी  ;   इसकी जड़ का पाउडर  लेने से urine भी ठीक तरह से आता है । इसको लेने से kidney भी ठीक होती हैं ।    

शिरीष   ;      पस cells बढ़ने , या बार बार urine के आने की समस्या हो तो , इसकी कोमल पत्तियां पीसकर मिश्री मिलाकर पीयें या इसका काढ़ा पीयें ।    

सत्यानाशी (argemone, maxican prickly poppy);    जलोदर ascites का रोग हो या urine कम आता हो तो इसके पंचांग को छाया में सुखाकर 10 ग्राम की मात्रा में लें ।  इसका 200 ग्राम पानी में काढ़ा बनाएं ।  सवेरे शाम लें ।  

बहेड़ा ( bellaric myrobalan) ;  kidney में समस्या हो तो, इसका पावडर और मिश्री बराबर मात्रा में मिलाएं और एक -एक चम्मच सवेरे शाम लें । 

लौकी ( bottle gourd) ;  लौकी को घीया और दूधी भी कहा जाता है . ताज़ी लौकी का छिलका चमकदार होता है . इसे गरम पानी से अच्छी तरह धोकर इसका जूस निकालना चाहिए . इसके जूस में सेब का जूस मिला लें तो यह स्वादिष्ट हो जाता है . इसके जूस को सवेरे खाली पेट काली मिर्च मिलाकर और थोड़ा गुनगुना करके लेना चाहिए ।  इसके जूस में तुलसी या पोदीना भी मिलाया जा सकता है . 
                       रुककर पेशाब आना ,  Kidney की समस्या में या फिर urea बढ़ा हुआ हो तो  यह जूस पीएँ।  इसके पत्तियों की सब्जी खाएं . इसके डंठलों की सब्जी भी खाई जा सकती है . अगर पथरी की समस्या है तो इसकी जड़ उबालकर पीयें . 
 लौकी कडवी नहीं होनी चाहिए ;  इसका जूस हानिकारक  हो सकता है 

.नागदोन  ;    urine रुक रुककर आता हो तो इसके दो पत्तों का शर्बत खाली पेट लें । 

बकायन , महानिम्ब (bead tree ) ;  किडनी की समस्या हो तो इसकी छाल उबालकर सवेरे शाम लें ।  बकायन का प्रयोग बहुत अधिक नहीं करना चाहिए , इससे lever पर जोर पड़ सकता है । 

पंवाड या चक्रमर्द (foetid cassia ) ;   इसके बीज,  मेथी के बीज और आंवला बराबर मात्रा में लेकर एक चम्मच प्रात: साँय  3 ग्राम की मात्रा में  खाएं |  इससे kidney ठीक होती  है |  

पत्थरचट (bryophyllum)  ;    यह पथरी को चट कर जाता है. शायद  इसीलिये इसका यह नाम पड़ा . पित्ताशय में पथरी हो या किडनी में हो ; दोनों ही अवस्था में , सुबह शाम इसकी दो तीन पत्तियां खाएं या फिर पत्तियां पीसकर रस का सेवन करें . साथ ही प्राणायाम भी करते रहें . इससे पथरी दोबारा होने की सम्भावना भी नहीं रहती और शरीर में पथरी बनाने वाले कारक भी स्वयं समाप्त हो जाते हैं ।  अगर urine भी रुक रुक कर आता है ; तो भी ये रस बहुत मददगार है ।   

वासा (malabar nut)  ;   किडनी के रोगों में इसके पंचांग का काढ़ा लें . या फिर 5-5-5 ग्राम वासा ,पीपल और नीम मिलाकर मिटटी के बर्तन में काढ़ा बनाकर पीयें । इससे uric acid भी कम होगा और कफ भी कम होगा । 

खान पान में शुद्धि रखें व urine का अधिक वेग धारण न करें ; अर्थात अधिक देर तक urine को रोककर न रखें ।

तेजपत्ता (bay leaves)  ;  Kidney में पथरी हो तब इसकी पत्तियों का उबला पानी सवेरे शाम लें । 

खस (grass) ;   Kidney की परेशानी में खस और गिलोय का काढ़ा सवेरे सवेरे  पीयें । 

शरपुंखा  ;    इसके पंचांग को मोटा मोटा कूटकर 5-10 ग्राम लें और 200 ग्राम पानी में काढ़ा बनाकर पीयें । 
                                             Kidney  इसी काढ़े से ठीक होती है । यह मूत्रल होता है । शरपुन्खा के साथ पाषाण भेद और गोखरू मिलकर काढ़ा लेने से Kidney संबंधी सभी तरह की समस्याएँ ठीक हो जाती हैं ।  

मकोय (black nightshade) ;   किडनी की बीमारी हों तो 10-15 दिन लगातार इसकी सब्जी खाइए ।  इसके 10 ग्राम सूखे पंचांग का 200 ग्राम पानी में काढ़ा बनाकर पीयें । 

गुलदाउदी (chrysanthemum)  ;     kidney stone हों तो इसके फूलों को सुखाकर उनकी चाय पीयें ।  Urine रुककर आता हो तो इसकी चार पांच छोटी छोटी पत्तियों में काली मिर्च मिलाकर ,  काढ़ा बनाकर पीयें ।    

दूब ( grass)  ;     अगर मूत्र कम आता है , क्रेटीनीन का स्तर बढ़ा हुआ है या फिर urea का level बढ़ा हुआ है तो घास का सूखा पंचांग 10 ग्राम लें और 400 ग्राम पानी में काढ़ा बनाकर पीयें । 

तिल (sesame)  ;  अगर 5 ग्राम गोखरू  और 5 ग्राम तिल मिलाकर काढ़ा बनाकर पिया जाए तो पेशाब रुक रुक कर आने की, या बार बार पेशाब जाने की ; दोनों ही  मूत्र संबंधी समस्या हल हो जायेगी ।  इसके अलावा छोटी अंगुली को ऊपर से सवेरे शाम करीब 50-50 बार दबाएँ । 
पथरी होने पर इसकी जड़ की राख ले सकते हैं ।   

कुटज (इन्द्रजौ )  ;  मूत्र के विकार हों , kidney की समस्या हो तो इसकी छाल रात को मिट्टी के बर्तन में भिगोयें ।  इसका पानी  सवेरे सवेरे पी लें । 

शतावर (asparagus)  ;  रुक कर पेशाब आ रहा है या जलन है या kidney में  पथरी  है तो शतावर में गोखरू के बीज मिलाकर डेढ़ चम्मच पावडर का काढ़ा बनाकर पीयें । 

बथुआ (chenopodium) ;बथुआ संस्कृत भाषा में वास्तुक और क्षारपत्र के नाम से जाना जाता है ।  इसमें क्षार होता है , इसलिए यह पथरी के रोग के लिए बहुत अच्छी औषधि है ।  इसके लिए इसका 10-15 ग्राम रस सवेरे शाम लिया जा सकता है । 
 किडनी की समस्या हो तो इसके बीजों का काढ़ा लिया जा सकता है ।  इसका साग भी लिया जा सकता है । 

सफ़ेद प्याज (white onion) ;  पथरी है तो 4-5 प्याज का रस, शहद और पानी मिलाकर लें । 

अंगूर (मुनक्का ) grapes  ;  पेशाब खुलकर न आता हो तो 8-10 ग्राम मुनक्का , मिश्री और छाछ के साथ लें ।  

भुट्टा (corn) ;  पथरी में इसके डंठल की राख 3 ग्राम के करीब शहद के साथ लें | पेशाब की समस्या हो तो राख ठन्डे  पानी से लें । इसकी जड़ का काढ़ा मूत्र संबंधी विकारों को भी ठीक करता है | 

वरुण (three leaf caper)  ; वरुण को हिन्दी में बर्नी या बरना भी कहते हैं . जंगल का यह विशालकाय वृक्ष वसंत ऋतु में सुंदर फूलों से लद जाता है . इसकी मोटी छाल गुर्दे और पथरी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है . इससे blood urea का स्तर ठीक हो जाता है ।  पथरी हो तो इसकी छाल +गोखरू +कुलथ की दाल +पाषाणभेद को मिलाकर काढ़ा बनायें और पीयें ।  पानी ज्यादा पीयें ।    
 इसकी कोमल पत्तियों का साग अगर वसंत ऋतु में तीन दिन भी खाया जाए तो पथरी होने की सम्भावना कम हो जाती है . पथरी होने पर इसके फूल व कोमल पत्तियों का काढ़ा पीयें . इसके फूल सुखाकर उसकी चाय पीने से भी पथरी नहीं होती और इससे रक्तशोधन भी होता है . इसके फूल और कोमल पत्तियों को सुखाकर उसके 3 gm पावडर की चाय लेने से kidney ठीक रहती है और पथरी होने की सम्भावना भी कम हो जाती है । 

खीरा (cucumber)  ;   यह kidney के रोगों में लाभ करता है ।  इसके लिए सुबह खाली पेट खीरा लें।  

आँवला  ;   मूत्र विकारों में इसके तने की छाल व पत्तियां 10 ग्राम लें ।  इन्हें 400 ग्राम पानी में पकाएं ।  जब एक चौथाई रह जाए तो पी लें ।  यह काढ़ा सुबह शाम लेना है । 

करेला (bitter gourd)  ;  पथरी के लिए इसका थोड़ी मात्रा में रस खाली पेट लिया जा सकता है ।

हल्दी (turmeric)  ;   Kidney में कोई समस्या है तो एक चम्मच हल्दी प्रात: सांय पानी के साथ लें । 

धनिया (coriander)  ;  पेशाब में जलन हो या रुक रुक कर आ रहा हो तो , थोडा आंवला और धनिए का पावडर रात को भिगोकर सवेरे ले लें । 

घृतकुमारी (aloe vera )  ;   भुने काले तिल , गुड और घृतकुमारी को मिलाकर लड्डू बनायें  ।  ये लड्डू prostrate gland बढ़ने पर  लिए जा सकते हैं । 

कंटकारी , कटैली (yellow berried nightshade )  ;  पेशाब रुक रुककर आता हो तो सूखे पौधे को पांच ग्राम लें और चार सौ ग्राम पानी में उबालें ।  जब एक चौथाई रह जाए तो खाली पेट पी लें । 

पालक (spinach )  ;  अगर जड़ समेत पालक को कूट कर बीस पच्चीस मीo लीo रस खाली पेट सुबह ले लो तो पथरी चाहे कहीं की भी क्यों न हो ; खत्म हो जाती है ।  पेशाब खुलकर न आ रहा हो तो भी यह लाभदायक है । 

मेंहदी (henna )  ;   यदि E.S.R. बढ़ गया है, शरीर में pus cells बढ़ गए हैं  ; prostate बढ़ गया है या पथरी की शिकायत है  ; तो मेंहदी की  2-3 ग्राम छाल और 2-3 ग्राम पत्तियां लेकर उसे 200 ग्राम पानी में पकाएं ।  जब आधा रह जाए तो खाली पेट पी लें । 

गेंदा (african merigold )  ;   पेशाब खुलकर न आता हो या urine में infection हो तो इसकी 5-10 ग्राम पत्तियों का रस खाली पेट लें ।  

छुईमुई (touch me not )  ;  kidney बढ़ गई  हैं, उन्हें shrink करना है , तो इस पौधे को पूरा सुखाकर , इसके पाँचों अंगों (पंचांग ) का 5 ग्राम 400 ग्राम पानी में उबालें।  जब रह जाए एक चोथाई, तो सवेरे खाली पेट पी लें। 
पथरी किसी भी तरह की है तो , इसके 5 ग्राम पंचांग का काढ़ा पीएँ ।  पेशाब रुक - रुक कर आता है या कहीं पर भी सूजन या गाँठ है तो इसके 5 ग्राम पंचांग का काढ़ा पीएँ । 

गिलोय  ;   गिलोय  kidney के लिए बहुत बढ़िया है । इसके प्रयोग से इन रोगों में आराम आता है । 

अपामार्ग , लटजीरा  ;  Kidney की समस्या है तो इसके पचांग का काढ़ा लें ।     इसकी छार या क्षार बहुत ही उपयोगी है . इसकी छाल, जड़ आदि को जलाकर पानी में ड़ाल दें . बाद में ऊपर का सब कुछ निथारकर फेंक दें . नीचे जो सफ़ेद सा पावडर बच जाता है ; उसे अपामार्ग की छार या क्षार बोलते हैं ।  अगर kidney में stone हैं , तो इसका आधा ग्राम क्षार पानी के साथ ले सकते हैं । 

पलाश (flame of the forest )  ;   पेशाब खुलकर नहीं आता , किडनी ठीक नहीं है , तो इसके 5-10 फूल रात को आधा लिटर पानी में भिगोयें और सवेरे उस पानी को मसलकर , छानकर पीयें | 
 kidney की सूजन में इसका क्षार बहुत अच्छा रहता है ।  क्षार बनाने के लिए इसका सूखा पौधा जलाकर पानी में घोल कर छोड़ दें।  कुछ घंटों बाद ऊपर का सब कुछ निथार कर फेंक दें ।  नीचे बचा हुआ सफ़ेद पावडर सुखा लें ।  वही क्षार कहलाता है । 

सहदेवी ;  अगर मूत्र संबंधी कोई समस्या है तो एक ग्राम सहदेवी का काढ़ा लिया जा सकता है ।   

गेहूँ  ;   पेशाब में जलन हो या खुलकर न आता हो तो 2 चम्मच दलिया रात को मिटटी के बर्तन में भिगो दें। सवेरे खाली पेट इसे छानकर पीयें। गोधूम क्षार पथरी के लिए अच्छा होता है।  क्षार बनाने के लिए पूरे गेहूँ के पौधे को जला लें।  पानी में अच्छी तरह घोल लें ।  कुछ घंटे ऐसे ही रहने दें ।  बाद में ऊपर का निथारकर  फेंक दें और नीचे बचा हुआ सफ़ेद पावडर सुखा लें ।  यही गोधूम क्षार है . 
                           पथरी होने पर सवेरे शाम आधा-आधा ग्राम गोधूम क्षार लें।  

अपराजिता  ;  कम पेशाब आता हो तो इसके पत्ते पीसकर पानी में मिश्री के साथ लें। 

कालमेघ  ;   2 ग्राम आंवला +2 ग्राम कालमेघ +2 ग्राम मुलेटी का 400 ग्राम पानी में काढ़ा बनाइए और सवेरे शाम लीजिए ।  इससे शुगर की बीमारी  के कारण हुई किडनी की समस्या ठीक हो जाती है ।  

कचनार  ;  पेशाब रुक कर आता हो तो इसके बीज का पावडर 1-1 ग्राम सवेरे शाम लें। पेशाब में जलन हो तो इसकी छाल का पावडर +धनिया पावडर +मिश्री मिलाकर लें। 

ब्राह्मी   ;   पेशाब की दिक्कत हो तो ब्राह्मी के रस में काली मिर्च मिलाकर शरबत पियें । 

जामुन  ;  जामुन के फल को एक वर्ष में 20 -25 दिन भी ले लो तो पथरी होने की सम्भावना नहीं होती।  

गोखरू  ;   यह kidney के लिए सर्वोत्तम है।  इसके पंचांग या केवल फल का काढ़ा लेने से किडनी ठीक हो जाती है।  बार बार पेशाब आता है , या रुक रुक कर आता है या फिर prostrate glands की समस्या है तो गोखरू और काला तिल बराबर मात्रा में मिलाकर प्रात: सांय लें।   इसका काढ़ा लेने से पथरी निकल जाती है और दोबारा नहीं होती।  

रतनजोत (onosma )  ;  इसके पत्तों का काढ़ा नियमित रूप से लिया जाए तो गुर्दे की पथरी भी ठीक हो जाती है।  

कदम्ब  ;   इसके पेड़ की 5 ग्राम छाल में 4-5 तुलसी के पत्ते डालकर काढ़ा बनायें और कुछ दिन पी लें। अगर urine कम आ रहा है तो इसे लेने से यह समस्या हल हो जाती है। 

Wednesday, November 5, 2014

ल्यूकोरिया , प्रमेह व प्रदर रोग (white discharge)

युवक युवतियाँ  कभी कभी प्रमेह , श्वेत प्रदर , रक्त प्रदर आदि की बीमारी से पीड़ित हो जाते हैं । लेकिन कुदरत  की अनमोल जड़ी बूटियों के होते परेशान होने की आवश्यकता नहीं है । कुछ पौधे इस प्रकार हैं ;

शीशम ; शीशम के पत्ते बहुत ठंडी प्रकृति के होते हैं । इसके दो चार पत्तों को पीसकर , मिश्री मिलकर , शरबत बनाकर सवेरे खाली पेट पीने से इस बीमारी में आराम आता है । अगर किसी की प्रकृति शीतलता की ओर  है तो उसे 2-4 काली मिर्च भी साथ पीसकर शरबत बनाना चाहिए ।

गेंदा (african marigold ) ; इस फूल का केवल ऊपर का ही पीला पंखुड़ियों वाला भाग लें । नीचे वाले काले भाग को न लें । इन्हे 15 ग्राम लेकर उसमे 2-3 चम्मच पानी मिलाकर , पीसकर रस बना लें । उसमे थोड़ी सी मिश्री मिलाकर , प्रात: सायं लें । पंखुड़ियों में एक दो गेंदे के पत्ते भी मिला सकते हैं ।

बबूल ; प्रमेह , धातु रोग या night fall आदि की बीमारी हो तो यह पौधा चमत्कारी है । सुबह सुबह 5-7 पत्तों को तोड़कर चबाएं और कुछ देर बाद निगल लें । उसके बाद एक गिलास पानी पी लें ।
अगर ताज़ी पत्तियां न मिलें तो इसकी छाया में सूखी हुई पत्तियों का पाउडर  लें । उसमे थोड़ी मात्रा में मिश्री मिला दें । इसे 1 ग्राम से 3 ग्राम की मात्रा तक रोज़ लें ।

गंभारी ;  गंभारी के बीज का पाउडर सवेरे शाम लिया जाए तो इन बीमारियों से राहत मिलती है ।
धातु रोग में गंभारी फल का पाउडर + आँवले का पाउडर बराबर मात्रा में लेकर उसमे थोड़ी मिश्री मिला लें । इसे सुबह शाम सादे पानी या दूध के साथ लिया जाए , तो यह रामबाण औषधि है ।

खजूर ;   अगर शुक्राणुक्षीणता है या वीर्यदुर्बलता है तो खजूर बहुत पौष्टिक होता है ।
अगर प्रमेह , धातु रोग या कमजोरी है तो खजूर की 3-4 पत्तियों को कूटकर शरबत बनाएँ । इसका सेवन 15-20 दिन तक या फिर 1-2 माह तक भी इसका सेवन कर सकते हैं । 

अर्जुन ;  अगर पित्तजन्य प्रमेह या प्रदर की बीमारी है तो इसकी छाल का दो चम्मच पाउडर रात को पानी में भिगो दें । प्रात: काल पाउडर को हिलाकर पानी को भी पी जाएँ । ज्यादा परेशानी है तो इसका पाउडर पानी में उबालकर , काढ़ा बनाकर पीएँ ।

सेमल ; 1-2 वर्ष के सेमल के पेड़ की जड़ बहुत कोमल होती है । इसे सेमल की मूसली कहते हैं । इस जड़ को उखाड़कर , उसके टुकड़े करके सुखा लें । इसका पाउडर  धातु रोग व वीर्य दोष में लाभकर है । इसकी मूसली का पाउडर  + विदारी कंद + शतावर + मिश्री मिलाकर , प्रात: सायं दूध के साथ लें । यह पौष्टिक , धातु वर्धक व शीतल होता है ।
ल्यूकोरिया हो तो इस कंद को कूटकर इसका पाउडर सवेरे शाम पानी के साथ लें ।
इसकी कोमल पत्तियां कूटकर पानी मिलाकर , शर्बत की तरह पीयें तो गर्मी दूर होती है , रक्त , पित्त ,स्वप्न दोष आदि  में लाभ होता है ।
यह  पुष्टिकारक व बलवर्धक है ।

गाजर  ;   White Discharge की शिकायत हो तो गाजर के रस में आंवला और पुदीना मिलाकर सेवन करें ।

गन्ना ; जूट का ऐसी बोरी (बैग ) लें , जिसमे कि पिछले दो तीन साल पहले गुड का storage किया गया हो । इस बोरी को जलाकर राख कर लें । यह राख औषधि का कार्य करती है । इसकी 2-2 ग्राम की मात्रा लेने से रक्त प्रदर और श्वेत प्रदर (white discharge ) की बीमारी ठीक होती है ।  

भुइं आंवला  ;   प्रदर या प्रमेह की बीमारी इसके पंचांग का काढ़ा पीने से ठीक होती है ।

रेवनचीनी   ;    प्रमेह , धातु रोग आदि इसकी जड़ का पाउडर  लेने से ठीक हो जाते हैं।  

अगस्त्य (sesbania)  ;    इसके फूलों को बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर कांच के बर्तन में रख दें . तीन चार दिन धूप दिखा दें . बस बन गया इसका गुलकंद ! इसे लेने से एकाग्रता बढती है  इसे लेने से धातु दुर्बलता ठीक हो जाती है  
 White discharge की समस्या में , इसके फूलों का एक चम्मच पावडर दूध के साथ लिया जा सकता है ।  रक्त प्रदर होने पर फूलों और पत्तों का पावडर बराबर मात्रा में मिलाकर लें।  Uterus में infections  हों ,सूजन हो ,या फिर खुजली हो तो इसकी पत्तियों के रस को रुई में भिगोकर लगाना चाहिए । इससे vaginal infections  और swelling भी ठीक होती है ।  इसके पत्तों में नीम के पत्तों का रस मिलाकर धोने से हर प्रकार के infections खत्म होते हैं । 

चांगेरी ( indian sorrel) ;  रक्त प्रदर होने पर या over bleeding होने पर,  इसके पत्तों को पीसकर मिश्री मिलाकर पीयें।

अमलतास ( purging cassia) ;   White discharge की समस्या में या यौन दुर्बलता होने पर अमलतास के फली का 15-20 ग्राम गूदा रात को भिगो दें व सवेरे मिश्री या शहद मिलाकर लें ।

गंभारी (verbenaceae)  ;  प्रमेह या यौन संबंधी रोग हों तो इसके फल के पावडर में बराबर मात्रा में आंवला मिला लें ।  अब इसमें मिश्री मिलाकर पानी या दूध के साथ सवेरे शाम प्रयोग करें । 

शिरीष  ;   सूजाक होने पर इसके पत्तों के के साथ नीम के पत्तों का रस भी मिला लें और धोएं ।  

बबूल या कीकर  ;     प्रमेह रोगों में इसकी कोमल पत्तियां प्रात:काल चबाकर निगल लें ।  ऊपर से पानी पी लें । 

बहेड़ा ( bellaric myrobalan)  ; White discharge की समस्या हो तो , इसका पावडर और मिश्री बराबर मात्रा में मिलाएं और एक -एक चम्मच सवेरे शाम लें । 

लौकी ( bottle gourd)  ;  लौकी को घीया और दूधी भी कहा जाता है . ताज़ी लौकी का छिलका चमकदार होता है . इसे गरम पानी से अच्छी तरह धोकर इसका जूस निकालना चाहिए . इसके जूस में सेब का जूस मिला लें तो यह स्वादिष्ट हो जाता है . इसके जूस को सवेरे खाली पेट काली मिर्च मिलाकर और थोड़ा गुनगुना करके लेना चाहिए।  इसके जूस में तुलसी या पोदीना भी मिलाया जा सकता है . यह प्रमेह , white discharge आदि को ठीक करता है । 
                        लौकी कडवी नहीं होनी चाहिए ;  इसका जूस हानिकारक  हो सकता है

दूधी, दूधिया घास(milk hedge )  ;     लिकोरिया की समस्या हो तो इसको सुखाकर, इसका  पावडर नियमित रूप से लें या इसका काढ़ा बनाकर लें ।  

बकायन, महानिम्ब (bead tree)  ;  White discharge की समस्या हो तो इसके बीज का पावडर +आंवला +मुलेठी मिलाकर 1-1 ग्राम सवेरे शाम ले लें । 

पंवाड या चक्रमर्द (foetid cassia) ; प्रदर रोग में इसकी जड़ का पावडर चावल के धोवन के साथ लें और इसके पत्तों का साग खाएं |    

धातकी ,धाय  (woodfordia)  ;  रक्त प्रदर या श्वेत प्रदर के लिए पठानी लोद, धातकी के फूल और चन्दन बराबर मात्रा में मिलाकर उसमें मिश्री मिलाकर लें । 

जलजमनी (broom creeper)  ;  श्वेत प्रदर(white discharge) हो या रक्त (bleeding) प्रदर हो तो इसकी 5-7 gram पत्तियों को पीसकर रस निकालें और एक कप पानी में मिश्री और काली मिर्च के साथ सुबह शाम लें ।  दो तीन दिन में ही असर दिखाई देगा ।  

पत्थरचट (bryophyllum) ;  श्वेत प्रदर या प्रमेह की बीमारी में भी इसके दोतीन पत्तों का रस ले सकते हैं ।  

वासा (malabar nut)  ;  प्रमेह या धातु रोग होने पर इसके फूलों का पावडर बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर एक एक चम्मच लें । 

दूब (grass ) ;  White discharge की समस्या हो या bleeding अधिक हो , तब भी इसके पत्तों का 3-4 चम्मच रस लेना चाहिए । 

तिल (sesame) ;    सूजाक जैसी भयंकर बीमारी हो जाए तो , इसकी 4-5 ग्राम पत्तियों का पावडर रात को मिट्टी के बर्तन में भिगो दें |  सवेरे सवेरे इसे मसलकर अश्वगंधा के साथ पी लें |  बीमारी अवश्य ठीक होगी | 

भारंगी (turk's turban moon)  ;    हर्पीज़ की बीमारी में पत्ते पीसकर लगा दें और पत्तों का काढ़ा पीयें ।   

गुड़हल, जबाकुसुम (shoe flower, china rose) ;  अगर ल्यूकोरिया है , प्रमेह है या मूत्रदाह की बीमारी है तो , इसके तीन फूलों की डंडी हटाकर फूल को पीछे की तरफ से चूसें , यह मीठा लगेगा । फिर उसे चबाएं और ऊपर से पानी पी लें ।  यह सवेरे खाली पेट करें ।

मालती (rangoon creeper)  ;   इसके फूल और पत्तियां औषधि होते हैं ।  इसके फूलों से आयुर्वेद में वसंत कुसुमाकर रस नाम की दवाई बनाई जाती है ।   इसकी 2-5 ग्राम की मात्रा लेने से कमजोरी दूर होती है और हारमोन ठीक हो जाते है । प्रमेह , प्रदर , और मासिक धर्म आदि सभी समस्याओं का यह समाधान है । 
                                                                   प्रमेह या प्रदर में इसके 3-4 ग्राम फूलों का रस मिश्री के साथ ले सकते हैं । 

 बथुआ (chenopodium)  ;  White discharge के निदान के लिए इसके रस में पानी और मिश्री मिलाकर पीयें । 

सफ़ेद प्याज (white onion)  ;  White discharge होने पर इसका 5-10 gram रस और 3-4  चम्मच  शहद और पानी के साथ लें ।  

सेमल (silk cotton tree) ;  गर्मी की परेशानी हो , या प्रदर की शिकायत हो तो इसकी छाल को कूटकर शहद के साथ लें ।

भुट्टा (corn)  ;   White discharge की समस्या हो तो भुट्टे के बालों का मिश्री के साथ सेवन करें ।  अधिक bleeding या U T I infection है तो भुट्टे के बाल और शीशम के पत्ते मिलाकर लें ।    

खीरा (cucumber)  ;  इसके बीज पौष्टिक होते हैं पर उष्ण नहीं होते ।  एक भाग खीरे के बीजों के साथ दो भाग आंवला मिलाएं और सवेरे शाम लें ।  इससे प्रमेह और प्रदर की बीमारी भी ठीक होगी और शरीर में जलन या दाह की अनुभूति होती हो तो वह खत्म हो जाएगी । 

आँवला  ;   आँवले के सेवन से ये बीमारियाँ ठीक होती हैं ।  आमलिकी रसायन का प्रयोग भी किया जा सकता है ।    

अपामार्ग , लटजीरा  ;   White discharge की शिकायत है तो , इसके पत्तीं का 1-2 ग्राम रस एक कप पानी में डालकर , कुछ दिन लें।

गिलोय  ;   गिलोय का सेवन करने से ये बीमारियाँ ठीक होती हैं ।   

पलाश (flame of the forest)  ;  इसके फूल का पावडर मिश्री के साथ मिलाकर 1 चम्मच दूध के साथ ले सकते हैं ।  इससे प्रमेह , white discharge आदि ठीक होते है । 
 इसके बीज के पावडर में मिश्री मिलाकर 1-1 चम्मच सवेरे शाम लें । इससे प्रमेह , प्रदर ठीक होते हैं । 
इसके गोंद को कमरकस कहते हैं . रक्त प्रदर(bleeding ) हो तो इसे आधा ग्राम की मात्रा में लें | 

मरुआ  ;  इसके एक चम्मच बीज रात को भिगोकर सुबह मिश्री मिलाकर खाए जाएँ तो इससे शरीर में शक्ति तो आती ही है श्वेत प्रदर की बीमारी भी ठीक होती है ।     

कालमेघ  ;  2-3 gram कालमेघ में थोडा आंवला मिलाकर रात को मिट्टी के बर्तन में भिगो दें।  सवेरे मसलकर खाली पेट पी लें । इससे धातुरोग , white discharge आदि ठीक होते हैं।    

अश्वगंधा  ;  इसकी जड़ों का पावडर एक एक चम्मच दूध के साथ लें।  दूध से परेशानी हो तो पानी से भी ले सकते हैं। इससे white discharge समाप्त  हो जाता है और शरीर की क्षमता बढ़ती है।  कमर दर्द हो तब भी इसे सवेरे शाम लें। 

जामुन  ;   आंवला और जामुन की गुठली बराबर मिलाकर 2 -2 ग्राम सवेरे शाम लें। white discharge की समस्या में यह मिश्रण मिश्री के साथ लें । 

शीशम  ;  White discharge की परेशानी हो तो इसकी छाल का पावडर दो चम्मच रात को भिगो दें।  सवेरे मसलकर पीयें या काढ़ा बनाकर पीयें।